June 4, 2017

अमरीका का भैंस पालक फ़ार्म



मुझे एक बार अमरीका के एक ऐसे फ़ार्म में जाने का अवसर प्राप्त हुआ जहां भैंसें पाली जातीं थीं, दूध के लिए नहीं बल्कि मांस के लिए. आजकल हमारे देश में आजकल गाय, भैंस और अन्य विभिन्न किस्म के मांसों पर चर्चा चल रही है, इसलिए मैंने सोचा कि क्यों आज आपको इस बारे में अपना एक अनुभव सुनाया जाए.

 शैफर्ड फार्म का एक शेड  

अमेरिका के कुछ प्रगतिशील बागबानों की संस्था नार्थ अमेरिकन फ्रूट एक्स्प्लोरर्ज़ (नेफैक्स) ने मुझे अपनी वार्षिक कॉन्फ्रेंस में जंगली फलों पर भाषण देने के लिए आमंत्रित किया था. यह कॉन्फ्रेंस अमरीका की मिसूरी स्टेट के कोलंबिया शहर में हो रही थी. 

 शेफर्ड फ़ार्म में बैठे कान्फेरेंस के डेलीगेट
 
नेफैक्स के मैम्बर अमरीका और कैनेडा के वो बागबान हैं जो फलों की नयी नयी किस्मों और नए फलों में रूचि रखते हैं. ये लोग अपने बागीचों में विभिन्न फलों की नयी किस्मों को आजमाते हैं और फिर साल में एक बार किसी शहर में चार पांच दिन इकट्ठा होकर इन किस्मों के बारे में एक दूसरे से अपने अनुभव साझा करते हैं. इस कॉन्फ्रेंस में दो तीन ऐसे फल विशेषज्ञों को भी आमंत्रित कर लिया करते हैं जो नये और कम जाने वाले फलों पर काम करते रहे हों और बाग़बानो को नए फलों के उपयोग के बारे में सुझाव दे सकें. उस साल मुझे और विख्यात अमरीकन फल वैज्ञानिक प्रोफैसर डा. जूल्स जैनिक को आमंत्रित किया गया था.


शैफर्ड फार्म में मांस के लिए इस किस्म की भैंसें पाली जाती हैं

कॉन्फ्रेंस के कार्यक्रम में टूर भी रखे गए थे. एक दिन हम लोगों को मिसूरी फ्रूट रिसर्च स्टेशन ले जाया गया वहां हम लगभग आधा दिन घूमें. फिर उसके उपरान्त हम शैफर्ड फ़ार्म नाम के एक फ़ार्म पर गए. लंच की व्यवस्था भी यहीं थी. 

मेहमानों को ड्रिंक परोसती शैफर्ड फ़ार्म की परिचारिकाएँ 

शैफर्ड फार्म के एक भाग में ये लोग भैंसे भी पालते थे जिनका उपयोग मांस के लिए होता था. यह काफी बड़ा फ़ार्म था और ये लोग अपने आप को अमरीका का सबसे बड़ा भैंस मांस का विक्रेता बता रहे थे. फ़ार्म में ही इनका बहुत आधुनिक कत्लखाना था. वहां इन्होंने एक रेस्तोरां भी चला रखा था जिसमे भैंस के मांस के विभिन्न व्यंजन परोसे जाते थे. शायद यह उस इलाके में अपनी तरह का एक ही रेस्तोरां था और इसलिए काफी लोकप्रिय लग रहा था. मैने यहाँ काफी गाड़ियां खड़ी देखीं. रेस्तोरां के बाहर खुले में भी काफी मेज़ लगे हुए थे और वहां काफी ग्राहक थे.

ऐसे सजा रक्खा था शेफर्ड फ़ार्म वालों ने अपने फ़ार्म को 

कॉन्फ्रेंस के आयोजकों ने हम लोगों के लंच का इंतजाम वहीं किया था. खाने में भैंस के मांस के बने हैम्बर्गर, सैंडविच, स्टीक आदि कई किस्मों के अमरीकी व्यंजन थे.

जब भी मेरी योरोप या अमरीका के मित्रों से मांस के बारे में बात हुई तो उनका कहना था बकरे या मुर्गे जैसे जानवरों में मांस बहुत कम होता और हड्डियां ज्यादा होती हैं. इसलिए मांस के लिए गाय, सूअर या भैंस ही सबसे उपयुक्त पशु होते हैं. 

मैंने यह भी देखा कि वहां की भैंसें की हमारे यहाँ पाली जाने वाली भैंसों से अलग नस्ल की थी. वे दूध के लिए नहीं मांस के लिए ही पाली जाती थीं. ऐसे ही योरोप और अफ्रीका में भी मांस के लिए पाली जाने गायों की नस्ल भी अलग थी.

मांस के लिए बकरे मैंने भारत के अलावा कहीं पाले जाते नहीं देखे. केवल आस्ट्रेलिया में भेड़ का मांस बिकता है क्योकि वहां उन के लिए भेड़ें पाली जाते है जिनको बाद में मांस के लिए प्रयोग कर जाता है. इसलिए मांस उनके उन उद्योग का बाई प्रोडक्ट है, मुख्य प्रोडक्ट नहीं.  

No comments:

Post a Comment