May 17, 2019

THOUGHTS IN MY MIND ON TURNING EIGHTY


Yesterday, i.e. 16th May, was my birthday.  I completed eighty years and entered into 81st.
Though birthday is an annual feature as it comes every year raising your age by one. But still I think 80 is not an ordinary number.  It is a multiple of five.  Even government recognizes it as a special point in your age as you get a special raise in your pension. So it is time for new esolutions.
Previous year was quite productive. Besides many articles, I also wrote two books. One is already published and the other is scheduled to be out quite soon.  I made a few very useful contacts this icluding Dr. Tara Sen Thakur, who assisted me in writing the book, SOME WILD GROWING FOOD PLANTS OF THE WESTRN HIMALAYAS and is  my co-author.


 





I am not bodily same as I was on the day I had turned 75 (see my blog post of that day at the link https://fruitipedia.blogspot.com/2018/09/thoughts-in-my-mind-on-75th-birthday-16.html). I find physical strength declined. I have not only stopped travelling outside India, but have even started feeling inland travel stressful. I have now started feeling the need for a walking stick while walking on streets. I also had to stop visiting the Botanical Garden at IIT, Kamand.

But I still the thing I enjoy most is my work.  My most favourite place at home is my office where I spend 8-10 hours a day.

I have a very large collection of books besides my subject. Now I have started gifting these. Recently, after getting motivated from a blog post of Mr. Somrsh Goyal, DGP Prisons, HP, I gifted 187 Hindi books alongwith a book case to District Jail, Mandi. I also gifted books from my collection to Dr.  Bharti Kashyap from Nauni University and Dr. Kiran Kaur from Shere Kashmir Agricultural University.  I am looking for a suitable taker for Fruitipedia too.

So my dream is to continue working long as body allows. I have sme writing projects in my mind. Therefore on this day, I pray to Lord to give me strength to complete these projects.


May 5, 2019

A PLACE WHERE LAUNDRY IS CHARGED BY WEIGHT AND NOT BY NUMBER


So far wherever I went, whether in India or abroad, I saw laundry being charged by number and also the type of clothes.  You go to a laundry, handover the clothes and the laundry man will count these and note the details of clothes.  Then he will receive it and bill you accordingly.

A roadside laundry at Siem Reap, Cambodia

    But during my Cambodia tour in September, 2013, what I saw was different than I had been seeing so far.  At Siem Reap, Cambodia, the laundry was charged by weight and not by number.  And it was very cheap too.  The laundry owners in street or even in the hotels, will just weigh the clothes, receive it in a bag and then bill you at the rate of US$1 per kg.  The clothes were handed over in the evening washed, ironed and neatly folded.


Laundry sign board showing the rate 1 kg = 1 US dollar

    Really a novel experience.

May 2, 2019

WHEN A TRUCK DRIVER DID NOT LET DR. Y.S. PARMAR’S VEHICLE OVERTAKE

It was in 1966.  I was posted at the Fruit Research Station, Bagthan, which was also the native place of Dr. Y.S. Parmar.  He had a house, farm and a newly planted peach orchard there.  At the research station, popularly called “farm” by local people, there were 3-4 dilapidated make shift type of buildings which were being used as residence, office and veterinary hospital.  Besides me, there was a veterinary doctor, his stock assistant and full sub-division of HP PWD comprising of a Sub-Divisional Officer, three junior engineers, one clerk and a peon.  This group of six people was housed in a small hall that was originally constructed for being seed store for the “farm”. This group was managing all their activities, which also included the construction of a bridge on river Jalaal there, from this hall, with no office furniture at all.




Ancestral house of Dr. Parmar.  He loved this place very much and had spent his last days at this place.

The construction of road network in Himachal Pradesh had just begun.  Most roads were kuchcha and narrow.  The 20 km road that connected Bagthan with Nahan Shimla road at Banethi was not even properly finished.  It was only a fair weather road but still a passenger bus service connecting Bagthan and Nahan had been started. Otherwise only Jeeps of various government departments plied on it.  The PWD engineers required material for bridge they were constructing.  So on some days a PWD truck also used to come from Nahan.

Dr. Y.S. Parmar was quite attached to this place and enjoyed spending 2-3 nights in a month Bagthan.  This was his regular routine.  At that time (I have not visited Bagthan after 1974) his house used to be a very simple two storied building having 3 or 4 rooms with wooden floor.  People of today may find it difficult to believe, but the house had only one bed and only Mrs. Parmar slept on it.   All others including Dr. Parmar slept on floor.

Dr. Y.S. Parmar

One day when Dr. Parmar was returning to Shimla. The PWD truck was also going ahead.  Dr. Parmar’s station wagon was behind it.  The truck was running at its usual speed of 10-12 km per hour.  It was not possible drive faster than that on that kind of road.  It was a dry day and a lot of dust was being generated on the road by the truck.  So Dr. Parmar’s driver had been signaling the truck driver to get aside and allow some passage to them to overtake.  But that did not happen.  The truck driver did not move aside and continued throwing dust on Dr. Parmar’s vehicle.  After an arduous drive of one hour they reached Banethi where there was some wide place created to be used as a bus stop.  The truck sopped there.  Dr. Parmar, who was naturally irritated, called the driver and asked him that why he did not get aside.  The driver, Prithi Singh, probably a daily wager, replied that the self starter of his truck was out of order.  So it had to be manually pushed for starting the engine which was also not in good health.  So if had his truck engine stopped, it would not have started and that might have delayed him more.  It was a excuse. Dr. Parmar could sense it but just kept quiet.

A life size statue of Dr. Parmar at Ridge, Shimla

The incident was brought to the knowledge of PWD people.  It became the topic of our evening gossip.  We asked Prithi Singh that why he did like that.  He replied that he had taken PANGAS with many sort of officers. It just struck his mind that this time let him take a PANGA with a chief minister and see what happens.  He was surprised that nothing happened.
 Can it happen in India again with present day chief ministers?

January 28, 2019

अमरीका, ब्राज़ील और हाँगकाँग के ट्रामवेयों से अच्छा हो सकता है हिमाचल का जोगिंदर नगर बरोट ट्रामवे


कुछ दिन पहले जोगिंदरनगर से बरोट तक चलने वाले ट्रामवे की दुर्दशा के बारे में एक लेख पढ़ा। मुझे कोई 7-8 वर्ष पहले इस ट्रामवे पर जोगिंदर नगर से विंचकैम्प तक जाने का अवसर प्राप्त हुआ था। यह ट्रामवे वास्तव में ही बहुत बदहाली में है। जो ट्रामें, जिनको अधिकतर स्थानीय लोग ट्राली या ट्रक कह कर पुकारते हैं, यहाँ चल रही हैं, ये शानन पावरहाउस के निर्माण के समय 1930 में लायी गई थीं और शुक्र है कि ये अभी तक भी चालू हालत में हैं। वैसे इनकी सवारी और बैल गाड़ी की सवारी में कोई विशेष अंतर नहीं है। जिस दिन मैं जा रहा था, उस दिन सौभाग्य से पंजाब बिजली बोर्ड के यहाँ काम कर चुके एक वरिष्ठ सेवा निवृत्त इंजीनियर भी बरोट जा रहे थे। उनके आराम के लिए उनके साथ जा रहा कनिष्ठ अधिकारी एक रूई का गद्दा ले आया था। इस गद्दे को लकड़ी के तख्ते वाली सीट पर बिछा दिया गया। इस तरह मुझे और मेरी पत्नी को भी जाती बार नरम सीट बैठने को मिल गई।

      यह ट्राली बेशक बैल गाड़ी जैसी थी, पर चलने में ठीक थी और हमें विंचकैम्प तक पहुँचने में कोई रुकावट नहीं आई। एक लोहे की रस्सी के दोनों सिरों पर दो ट्रालियाँ जुड़ी होती हैं।  जब ऊपर बिजली की मोटर चलाई जाती है तो एक ट्राली रेल की पटरी जैसी पटरी पर ऊपर जाती है और वैसी ही एक दूसरी ट्राली ऊपर से नीचे आती है। ठीक बीच मे पटरी द्विशाखित हो जाती हैं और दो पटरियों में परिवर्तित हो जाती हैं और दोनों ट्रालियाँ अलग अलग पटरी पर चलने लगती हैं। बाद मे दोनों पटरियाँ फिर मिल कर एक हो जाती हैं। जब ये ट्रालियाँ दो पटरियों पर एक दूसरे को क्रॉस करती हैं, तो यह दृश्य बहुत ही आश्चर्यजनक और सुंदर लगता है। यह ट्राली होती तो एक चलने वाली गाड़ी ही है, पर इसमे न तो कोई इंजन होता है, ना ही स्टियरिंग और ना ही कोई ब्रेक।  हाँ ड्राइवर जरूर होता है जिसके हाथ में तांबे की एक लंबी छड़ होती है। पटरी के साथ साथ खंभों पर बिजली तार लगे होते हैं। अगर ड्राइवर को बीच में कहीं ट्राली रोकनी पड़ जाये तो वह उस तांबे की लंबी छड़ को खंबों से जाती बिजली की तारों से छू देता है जिसके परिणामस्वरूप ऊपर मोटर के नियंत्रण कक्ष में एक घंटी बजती है और मोटर को चलाने वाला मोटर का स्विच बंद कर देता है और ट्राली रुक जाती है। इसी तरह ट्राली को फिर से चलाने के लिए वह फिर घंटी बजा देता है। बीच में एक स्टेशन आता है जहां आपको पहली ट्राली से उतर जाना होता है और फिर दूसरी ट्राली में बैठ जाना होता है।

      यह सारा सफर बहुत ही रोमांचक, आनंदनीय और मैं तो कहूँगा अविस्मरणीय अनुभव है। बेशक आपकी यह सवारी डिजाइन और सुविधाओं में बैलगाड़ी जैसी ही है। रास्ते में बिलकुल सीधी चढ़ाई आती है। आप जंगल में से होकर भी गुजरते हैं। ऐसा कुछ कुछ अनुभव आपको अमरीका के डिज़्नीलैंड में पटरी पर चलाने वाली छोटी छोटी कारों के सफर में होता है। पर वहाँ तो सब जंगल पहाड़ बनावटी हैं जबकी इस ट्रामवे पर सब कुछ असली है।   

सैन फ्रांसिस्को शहर के बीचों बीच चलने वाली विश्व प्रसिद्ध केबल कारें 

      इस अत्यंत रोमांचक सफर के बाद मेरे मन में यह विचार आया कि हमारी सरकार इस ट्रामवे में थोड़ा सा सुधार कर के इस को पर्यटकों के लिए क्यों नहीं खोल देती। अगर ऐसा कर दिया जाए तो जोगिंदर नगर इलाक़े के पर्यटन व्यवसाय में बहुत ही वृद्धि हो सकती है। इस किस्म की सुविधा सारे भारत में कहीं नहीं है। लोग सुबह बरोट जाकर शाम को वापिस आ सकते हैं या चाहें तो वहाँ भी रुक सकते हैं। 
हाँग काँग में विक्टोरिया हिल को जाने वाली केबल कार 

      मैंने विदेशों में इस किस्म की ट्राली केवल तीन स्थानों पर देखीं हैं और सभी जगह यह पर्यटकों में बहुत लोकप्रिय हैं।  पहली हाँगकाँग, दूसरी अमरीका के सैन फ्रासिस्को तथा तीसरी ब्राज़ील के शहर रियो डि जनेरो में। हाँगकाँग में तो यह बिलकुल सीधी चढ़ाई चढ़ कर विक्टोरिया हिल नामक पहाड़ी पर पहुँच जाती है। पहाड़ी से हाँगकाँग शहर और बन्दरगाह का दृश्य बहुत ही सुंदर दिखता है।  लोग वहाँ आधा पौना घंटा रुकते हैं, रेस्तराओं में खाते पीते हैं और बतौर निशानी एक आध चीज खरीद कर नीचे लौट आते हैं। यह अनुभव जोगिंदरनगर के ट्रामवे के मुक़ाबले में कुछ भी नहीं हैं।
यह ट्रेन नुमा कार आपको ब्राज़ील के शहर रियो डि जनेरो की विश्वप्रसिद्ध ईसा मसीह की मूर्ति पर ले जाती है 

      सैनफ्रांसिस्को की ट्रालियों को वहाँ केबल कार कहते हैं। ये शहर के एक भाग से पहले ऊपर पहाड़ी पर चढ़ती हैं और फिर शहर के दूसरी ओर उतराई उतर कर नीचे समुद्री खाड़ी के किनारे, फ़िशरमैनज़ व्हार्फ आती हैं। सैनफ्रांसिस्को की केबल कारें उस शहर का एक प्रमुख आकर्षण और प्रतीक भी हैं।   

      रियो डे जनेरो में चलने वाली ट्राली को भी वे केबल कार ही कहते हैं।  यह पर्यटकों को नीचे शहर से पहाड़ी  के ऊपर जहां रियो डे जनेरो की ईसा मसीह (Christ the Redeemer) की  विश्व प्रसिद्ध मूर्ति है, वहाँ ले जाती है। यह दूरी काफी है और केबल कार जंगल से हो कर गुजरती है। ऊपर जाते हुए रियो डे जनेरो शहर तथा उसके समुद्र तटों का दृश्य बहुत ही मनमोहक लगता है।  क्योंकि यह स्थान ताजमहल के मुक़ाबले का पर्यटक स्थल है, इस लिए यहाँ हजारों लोग रोज आते जाते हैं।

      हमारी सरकार को जोगिंदर नगर के ट्रामवे को हाँग काँग या रियो डे जनेरों की तर्ज पर विकसित करना चाहिये।  यहाँ सब कुछ बना बनाया है। केवल कुछ सुधार की आवश्यकता है।  फिलहाल पुरानी ट्रालियों ही उपयोग में लायी जा सकती है। इस से जोगिंदर नगर, ऊपर विंचकैंप, बरोट आदि स्थानों में पर्यटन व्यवसाय में क्रान्ति लाई जा सकती है।

September 21, 2018

THOUGHTS IN MY MIND ON 75th BIRTHDAY (16 MAY 2014)


I have turned seventy-five today.
         75 is not an ordinary number in relation to age.  It is a multiple of 25. Great Hindu thinker Manu has divided the age of a man into four phases of 25 each.  According to Manu the last phase after completing 75 is SANYAS ASHRAM (सन्यास आश्रम).  What I understand by SANYAS is complete renunciation of family and social relationship, move to some secluded place and keep praying and meditating all the 24 hours.
         But I would not like to do it.  I love my work would like to continue working in my profession till my body allows it.  I spend over 10 hours a day in my study and this is the place in my home where I feel most comfortable.  So I would like to continue it.  I have already made a programme of work for my remaining years and there is no place for SANYAS in it. 
 Me at seventy five
“Fruitipedia” is my dream project.  As it is a very big project, compiling information on ALL EDIBLE FRUITS OF THE WORLD (estimated to be 4500), so I do not think that I shall be able to complete it during my life time.  But as the project is gradually getting known internationally, so I am sure that someone will continue and complete it after me.
         I happened to visit Indonesia a few years ago and there I was amazed to see apples being cultivated at Equator.  Thought immediately came to my mind that feat could be repeated in South India.  I started working on it and could find an ex-banker Krishna Shetty and a journalist Shree Padre in Karnataka who were convinced with my idea.  I sent them apples plants from Bajaura, Kullu, and got them planted at 18 locations in Karnataka to see if the idea was feasible.  The idea had worked.  Now there are around 4000 apple plants growing in Karnataka and Goa.  Many have started fruiting.  A large number of people there have become interested in growing apples.  Last month, they also formed South Indian Tropical Apple Growers Association.  Till now, we were doing it all by ourselves. But now, the University of Agricultural Sciences, Bangalore has evinced interest and they may soon start working on it.
         There is no botanical garden or park at Mandi having a collection of local flora and some interesting and unusual exotic plants.  Every city in Europe and America has one such park.  In fact such parks exist in very few Indian cities.  Very soon such park, first of its kind in Himachal Pradesh, will be coming up the Kamand campus of IIT, Mandi.  Upon my persuasion, Prof. Timothy Gonsalvez, Director, IIT, Mandi, has agreed to have one at Kamand.  Work has already been started and the first lot of 200 trees of 100 species shall be planted in July.
         I have always been a fun loving person and Lord gave me ample opportunity to enjoy and have fun during all those years.  To be honest, I would still like to continue it.  I am fond of travelling and have already travelled a lot all over the world.  I would like to continue it too.  Next month or in July, I shall be going to Europe.  There are two more trips in pipeline after that.
         I do not know how my body will work during the coming years as I am having all lifestyle ailments and pop over a dozen pills a day.  But still I have confidence shall continue pursuing my interests.
         I love to work.  Work is my only passion.  I want to continue working till end like Dev Anand and Khushwant Singh who are some of my role models.  I had even met Khushwant Singh at his place in Delhi and it was one of the most thrilling and inspiring moments of my life.       
         So I am NOT going to listen to Manu and opt for SANYAS.

August 13, 2018

वाघा बॉर्डर – साठ साल पहले का



एक दिन मैंने जब टी वी पर वाघा बॉर्डर पर रोज शाम को होने वाला “बीटिंग द रिट्रीट” समारोह देखा तो मुझे 60 साल पहले का वह दिन याद आ गया जब मैं पहली बार वहां गया था. आज वाघा के इस समारोह को देखने वहां कई हज़ार लोग रोज़ जाते हैं. वहां दर्शकों के लिए विशेष दर्शक दीर्घाएं  बन चुकी हैं जहां 15 से 20,000 लोग बैठ सकते हैं. ऐसा ही दृश्य पाकिस्तान की ओर ही दिखता है. वास्तव में रोज़ शाम को होने वाला यह समारोह आज एक विशाल व्यापारिक टूरिस्ट इवेंट बन गया है और दोनों ओर के वासियों के लिए आमदनी का साधन भी हो गया है. पर शुरू में यहाँ ऐसा कुछ भी नहीं था. आज वहां जाने वाले लोग ये सोच भी नहीं सकते कि वाघा बॉर्डर कभी ऐसा भी हुआ करता था.
 आज के वाघा बॉर्डर के कुछ दृश्य

                                 वाघा बॉर्डर के द्वार  


               पाकिस्तान की ओर की दर्शक दीर्घा में बैठे पाकिस्तानी नागरिक

                   भारतीय दर्शकों के बीच मैं और मेरा मित्र राजेन्द्र वर्मा

आज के दोनों देशों के विशाल द्वार भी वहां नहीं थे। इसके बजाय दो छोटे छोटे गेट थे, बिलकुल उसी साइज़ के जैसे कि आज चंडीगढ़ की कोठियों के होते हैं. दोनों गेटों पर भारत और पाकिस्तान का एक एक सैनिक, लगभग एक दूसरे से सटे हुए, खड़े होते थे. दोनों गेटों के बीच में सड़क पर एक कोइ तीन इंच चौड़ी, सफ़ेद रेखा बनी थी, जो अंतर्राष्ट्रीय सीमा को दरसाती थी.

मैं पहली बार वहां 1958 में गया था. उस समय मैं लुधियाना के गवर्नमेंट एग्रीकल्चर कौलेज (तब अभी पंजाब ऐग्रिकचरल यूनिवर्सिटी नहीं बनी थी) में बीएससी फाइनल का छात्र था. मेरा मेजर विषय होर्टीकल्चर था. वाघा के साथ अटारी में उस समय कृषि विभाग का एक फल अनुसंधान केद्र हुआ करता था. हम होर्टीकल्चर के छात्रों को उस अनुसंधान केंद्र को दिखाने के लिए कॉलेज की ओर से वहां ले जाया जाता था. अटारी का यह टूर भी हमारे पाठ्यक्रम का एक हिस्सा था.
हम लुधियाना से रेल द्वारा पहले अमृतसर और फिर रेल से ही अमृतसर से अटारी गए. अटारी उस लाइन का अंतिम भारतीय रेलवे स्टेशन है.
जब हम लोगों ने रिसर्च स्टेशन देख लिया तो हम में से 4-5 मित्रों ने पाकिस्तान सीमा देखने का निश्चय किया. हम सड़क पर पैदल आगे बढ़ रहे थे. सड़क के एक ओर पुलिस, कस्टम और अन्य विभागों की चेक पोस्टें थी. उन दिनों भारत में शायद पाकिस्तान के मुकाबले सोना महँगा हुआ करता था इसलिए सोने की स्मगलिंग होती थी. कस्टम वाले इसी पर ही अधिक ध्यान दिया करते थे.
सड़क पर कोइ आवाजाही नहीं थी. हमको एक पुलिस वाले ने पूछा तो हमने उसे बताया कि हम छात्र हैं और लुधियाना से अटारी का बागीचा देखने आये थे. अब बॉर्डर देखना चाहते हैं. पुलिस वाला हरियाणा का था. हम में एक छात्र रोहतक का भी था जिसे उस पुलिस इंस्पेक्टर ने पहचान लिया. वह भला ज़माना था. इसलिए पुलिस इंस्पेक्टर ने हमसे बहुत अच्छा बर्ताव किया और फिर कहने लगा कि बेटो चलो मैं तुमको बॉर्डर दिखाता हूँ. उसने हमको पहले पुलिस और फिर कस्टम के दफ्तर दिखाए और वे चीजें भी दिखलाई जिनका उपयोग स्मगलर लोग छुपा कर सोना लाने के लिए किया करते थे.
हम आगे बढ़ते गए. आगे एक जगह दो गेट बने थे. जब हम गेटों के पास पहुंचे, तो वहां मौजूद पुलिस वालों ने हमको रोका और कहा कि यहाँ भारत की सीमा समाप्त होती है और इससे आगे जाने के लिए हमारे पास पासपोर्ट और पाकिस्तान का वीजा होना चाहिए. मैं यहाँ बताना चाहूंगा कि सारी बातचीत बहुत ही सद्भावपूर्ण वातावरण में हो रही थी. दोनों ओर की पुलिस वाले हमसे बहुत ही प्रेमपूर्ण तरीके से बात कर रहे थे.
वहां दोनों ही देशों के पुलिस वाले थे. ड्यूटी वाले दो सिपाहियों को छोड़ कर बाकी सादे लिबास में थे. वहां एक बहुत ही दिलचस्प बात हुई. पाकिस्तान के एक पुलिसमैन, जो शायद सब इंस्पैक्टर रैंक का था, ने मुझसे पूछा की बेटे तुम कहाँ से हो. उसने मेरी बात के लहजे से अंदाज लगा लिया था कि मैं मंडी साइड से हूँ. मैंने उसे बताया कि मैं मंडी से हूँ. यह जान कर वह बहुत प्रसन्न हुआ और उसने मेरे कंधे थपथपा कर अपनेपन का इज़हार किया. उसने बताया कि वह भी उसी इलाके से है. फिर उसने आगे कहा कि उनका घर भाम्बला में था और वहीं से उनका परिवार पाकिस्तान आया. उसने हमसे कहा कि अगर हम चाहें तो वो हम को कुछ दूर आगे तक पाकिस्तान में ले जा सकता है. पर हम घबरा गए. एक साथी चुपके से बोला कि यार इन पाकिस्तानियों क्या ऐतबार, कहीं उस तरफ ले जा कर कैद ही कर लें. हम उन सब का शुक्रिया अदा कर के वापिस आ गए.
1979 का  वाघा बॉर्डर - गेट पर मैं, मेरी पत्नी और दोनों पुत्रियाँ 
उसके 12 साल बाद 1979 में मुझे दोबारा वहां जाने का मौक़ा मिला. तब मैं सोलन में कार्यरत था. हमें एक शादी में धर्मशाला जाना था. हमने तय किया कि सोलन से रेल मार्ग से अमृतसर होते हुए पठानकोट पहुंचा जाए और फिर वहां आगे लिए बस ले ली जाए. हम चाहते थे कि हमारी दोनों बेटियां रेल के सफ़र का आनंद ले लें और उनको हम अमृतसर का स्वर्ण मंदिर और वाघा बॉर्डर से विदेश (पाकिस्तान) की भी झलक दिखा दें. उस वक्त भी वाघा बॉर्डर वैसा नहीं था जैसा आज है (देखें चित्र). हालांकि शाम को दोनों देशों के झंडे तब भी उतारे जाते थे. पर आज के जैसा माहौल नहीं होता था. इस समारोह का टूरिज्म के लिए उपयोग करने का यह जबरदस्त बिजनेस आइडिया पता नहीं किस को आया. पर जो भी हो वह आदमी दिमाग वाला होगा क्योकि इस रोज के  30-40 मिनट के कार्यक्रम ने वहां के दोनों देशों के निवासियों के लिए आमदनी का अच्छा खासा साधन पैदा कर दिया है.
मुझे अपने संग्रह में हमारी इस 1979 की वाघा यात्रा की एक कलर ट्रांसपेरैंसी मिली है जो मैं स्कैन कर के यहाँ दे रहा हूँ. इस से आपको उस वक्त के और आज के वाघा में अंतर पता लग जाएगा.